Search Suggest

विश्व रेडियो दिवस का इतिहास, महत्व और थीम | World Radio Day History, Significance And Theme In Hindi

World Radio Day History, Significance And Theme In Hindi

विश्व रेडियो दिवस (World Radio Day) हर वर्ष 13 फरवरी को मनाया जाता है। इस दिन संचार के एक भरोसेमंद साधन के तौर पर रेडियो की चर्चा की जाती है और उसके भविष्य के बारे में बातचीत की जाती है। 

आज हमारी सीरीज आज का दिवस में हम जानेंगे विश्व रेडियो दिवस (World Radio Day) की सभी जानकारी तो लेख को पूरा जरूर पढ़ें। 

वर्ल्ड रेडियो डे (World Radio Day)
वर्ल्ड रेडियो डे (World Radio Day)

कैसे मनाया जाता है विश्व रेडियो दिवस 

  • इस दिन यूनेस्को दुनिया के सभी ब्रॉडकास्टर, संगठनों और समुदायों के साथ मिलकर एक भव्य कार्यक्रम आयोजित करता है। 

रेडियो दिवस मनाने का उद्देश्य 

  • रेडियो के जरिए दुनियाभर में सूचनाओं का आदान प्रदान किया जाता है और आपातकालीन स्थिति में तो इसका महत्व और बढ़ जाता है। 
  • इस दिवस को मानने का मुख्य उद्देश्य आजकल की इंटरनेट जनरेशन वाले युवाओं को रेडियो के महत्व के प्रति जागरूक करना है। 

विश्व रेडियो दिवस का इतिहास 

  • सबसे पहले साल 2010 में स्पेन रेडियो अकादमी ने 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस मनाने का प्रस्ताव दिया था। 
  • इसके बाद 2011 में यूनेस्को के सदस्य देशों ने इसे पारित कर 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस मनाना शुरू कर दिया। 
  • उसके बाद संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने भी अगले साल 2012 में इस दिवस को मान्यता दे दी। 

13 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है रेडियो दिवस 

  • विश्व रेडियो दिवस को 13 फरवरी को एक खास कारण से मनाते है क्योंकि इस दिन संयुक्त राष्ट्र रेडियो की शुरुआत 1946 में हुई थी। 

विश्व रेडियो दिवस 2024 की थीम 

  • इस साल विश्व रेडियो दिवस की थीम "रेडियो: सूचना देने, मनोरंजन करने और शिक्षित करने वाली एक सदी" है जिसका अर्थ रेडियो के उल्लेखनीय अतीत, प्रासंगिक वर्तमान और गतिशील भविष्य के वादे पर प्रकाश डालना है।  

निष्कर्ष 

विश्व रेडियो दिवस 2024 हम सभी माना रहें है लेकिन वर्तमान युग अब सोशल मीडिया का चल रहा है जिसमें हम सभी ऑडियो और टेक्स्ट कंटेंट से ज्यादा वीडियो पर फोकस कर रहें है। 
युवाओं को रेडियो का महत्व कभी नही भूलना चाहिए खासकर तैयारी कर रहे युवा अपनी पढ़ाई में करेंट अफेयर्स के लिए रेडियो का इस्तेमाल कर सकते है। 
लेकिन मेरे अनुसार अब चाहे लोग कितने ही प्रयास कर लें लेकिन रेडियो का भविष्य अब खतरे में ही नज़र आ रहा है आपकी इसपर क्या राय है कॉमेंट करके जरूर बताएं। 

यह भी पढ़ें 

मैं अलवर का रहने वाला हू, और मैं आर्ट से स्नातक कर चुका हूं। jokeswithnishu@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें